Monday, December 1, 2008

बेटी

समझदार होती बेटी ,
कुछ इस तरह होती है ,
जैसे बारिश के बादका इन्द्रधनुष
काली घटा की घनघोर बारिश के बाद ,
हरी, धुली , स्वच्छ और मौन प्रकृति
बेटी का बड़ा होना ,उसका गुनगुनाना
माँ की जानबूझ कर की गई गलतियों पर ,
उसका झुन्झुन्लाना ,उसका रूठ जाना,
बहुत कुछ शामिल है अब उसके साथ ,
जिसे भेजा है ,खुदा ने मेरे पास ,
मेरी बेटी की शक्ल में ,
वो है एक समझदार बेटी ,
होनहार बेटी

8 comments:

MUFLIS said...

...maaN ke dil mei apni beti ke liye ek komal, muqaddas ehsaas...
jis ka byaan lafzo meiN mumkin nahee, lekin aap ki lekhni ne kr dikhaya !! Shilp aur lehje ke nazariye se kavita bahot hi achhi hai. Mubaarakbaad .
---MUFLIS---

neelam said...

shukriya muflis ji

manu said...

आप आयी ....और शायद फुर्सत से आयीं आपका बहुत बहुत शुक्रिया......
पर आपने मुझे सिगरेट पीते कहाँ देख लिया....?
वैसे तो आपने यूँ ही लिखा होगा ....पर एक ही शहर के हैं ना..?सो डर लगता है....

फ़िर फोटो लगा रखी है ..कोई "एनी माउस " तो हैं नहीं...हम लोग

bahadur patel said...

neelam ji aapane betiyon par bahut sundar kavita likhi hai.mujhe bahut sari kavitayen yaad aa gai. jaise isase alag alok dhanva ki bruno ki betiyan kavita.
barish ke baad ka indradhanush. achchhi kavita.

Vijay Kumar Sappatti said...

aapki ye nazm padkar man men kuch ho gaya , meri beti bhi aisi hi hai ....

aapka dhanywad aur badhai ..


vijay

pls visit my poems blog for new poems : http://poemsofvijay.blogspot.com/

अवनीश एस तिवारी said...

सुंदर रचना के लिए बधाई |


अवनीश तिवारी

'अदा' said...

hnm
neelam ji,
aapne wahi baat kahi joo aj kal main bhi mahsoos kar rahi hun. meri beti bhi 16 saal ki ho jaayegi ab. wo sab kuch jo aapne shabdon mein bayan kiya hai haquikat ke kitne kareeb hain iski gawaah main hun..
badhai..

neelam said...

aap sabhi ka bahut bahut dhanyvaad .