Wednesday, October 15, 2008

पाखी -बड़ी होती मेरी बेटी

बड़ी होती मेरी बेटी

रोज सुबह तैयार होती

स्कूल को जाती

नए नए इनाम लाती

कभी तुनकती

कभी झगड़ती

मेरी बेटी ,

साथ में ,

अहसास दिलाती ,

की माँ बस ,

अब तुम थक -

गई हो ,

थोड़ा आराम करो ,

लाती हूँ ,चाय बनाकर ,

तुम्हारे लिए ,

चाय की चुस्कियों के ,

साथ ,अपनी नम कोरों को

पोंछती हूँ ,

और सोचती हूँ ,

क्यूँ

बड़ी होती है बेटी

4 comments:

Vijay Kumar Sappatti said...

aapki likhi hui is kavita ko pada to aanken nam ho gayi , meri bhi beti hai jo ab badi ho rahi hai , uska bachpan mere zindagi ke sabse ache lamhon mein se hain..

Appka bahut bahut dhanyawad, jo aapne meri kavita ko pasand kiya, usme apne jazbaato ko paaya.
Main tahe-dil se aapka shukragujar hoon.
I request you to visit my blog : www.poemsofvijay.blogspot.com ,maine wahan par apni bahut si nazmon ko post kiya hai, meri aapse gujarish hai ki ,aap wahan meri kavitaon ko padkar apne bahumulay comments likhiyenga . aapke comments hi mera sabse bada purushkar hai aur mujhe nirantar likhne ke liye prerit karte hain.
Dhanyawad

Vijay Kumar
Hyderabad
M : 09849746500
E : vksappatti@rediffmail.com

Rashmi Singh said...

Really Interesting.

सुनीता शानू said...

बहुत सुन्दर! क्या अभिव्यक्ति है आपकी रचना में
बधाई...

श्याम सखा 'श्याम' said...

नीलम जी,आपकी टिपण्णी-मस्का मजा आ गया वैसे
मेरा एक और ऐसा मस्का इसी माह प्र्काशित वयंग्य वाडंमय के अंक मे भी छपी है देखें शायद'यहां
20090206 Shrilal Shukla.pdf 6.0 MB-
yahoo.commiski